Difference between Summon and Warrant in Hindi

If you liked the Article Share it with your love ones because Sharing is caring!

Difference between summon and warrant, Summon और warrant अदालतो में प्रयोग किये जाने वाले दो बहुत ही आम शब्द हैं। इन दोनों में बहुत ही कम अंतर माना जाता है, लेकिन आज हम इस Article में summon और warrant के बीच कुछ अंतर बताने जा रहे है।

Summon और warrant अदालतो में प्रयोग किये जाने वाले दो बहुत ही आम शब्द हैं। इन दोनों में बहुत ही कम अंतर माना जाता है, लेकिन आज हम इस Article में summon और warrant के बीच कुछ अंतर बताने जा रहे है।

लेकिन कोई भी लोग इन दोनों शब्दों का सही तरीके से अंतर नहीं जानते है। ज्यादातर लोगों को तो ये भी पता नही होता कि दोनों के क्या मायने होते हैं। शायद आपको भी पता न हो इसलिए में आपको बता दू इन दोनों में काफी अंतर होता हैं। आइए जानते है दोनों में क्या अंतर है?

समन किसे कहते हैं? (What is Summon?

जब court में किसी आरोपी के खिलाफ केस चलता है तो उस आरोपी का court में present होना जरूरी होता है और आरोपी को court में present होने के लिए कहा जाता है तो इसे court की भाषा में summon कहा जाता है।

आम भाषा में आप ऐसे एक तरह का कानूनी notice भी कह सकते है जो कि civil और criminal मामलों में जारी किये जाते है। summon को या तो registered post से भेजा जाता है या court का एक व्यक्ति personally देने आता है।

जब summon किसी को व्यक्ति को मिलता है तो उसे उस पर हस्ताक्षर करने होते है। उसके बाद ये मान लिया जाता है कि उस व्यक्ति को summon serve हो चुका है।

वारंट किसे कहते हैं (What is Warrant?)

Warrant एक कानूनी आदेश को कहा जाता है। warrant किसी भी इंसान को arrest करने के लिए जारी किया जाता है, या फिर किसी की घर की तलाशी के लिए भी warrant जारी किया जा सकता है।

Difference between summon and warrant in Hindi , वैसे तो पुलिस किसी को बिना किसी warrant के arrest नही कर सकती है लेकिन फिर भी कुछ इसे circumstances होते है जब किसी को बिना warrant के arrest किया जा सकता है। बिना warrant के arrest करना fundamental right का उल्लंघन माना जाता है।

Warrant जारी करने का अधिकार केवल मैजिस्ट्रेट के पास होता है, कोई अन्य व्यकि warrant जारी नही कर सकता है। warrant एक लिखा हुआ document होता है जिस पर उसे issue करने वाले के sign होते है और उसका designation भी लिखा होता है, साथ ही साथ warrant में यह भी लिखा होता है कि वह किस अपराध के लिए जारी किया गया है।

में आशा करता हूँ कि आप समझ गए होंगे कि warrant और summon में क्या अंतर होता है। वैसे साधारण भाषा में कहा जाए तो warrant criminal case में जारी किया जाता है और summon civil और criminal दोनों मामलों में जारी किया जा सकता है।

Criminal case में कब होता है summon जारी?

जब किसी criminal case में चाहे वो 302 का case हो या किसी अन्य अपराध में किसी गवाह को court मेन बुलाया जाता है तो उसके लिए summon जारी किया जाता है।

मुझे उम्मीद है आप अब समझ गए होंगे कि warrant क्या होता है और summon क्या होता है और दोनों में क्या difference होता है। अगर आपको अभी भी किसी तरह का कोई doubt है तो आप नीचे कमेंट में पूछ सकते है में आपका जबाब जरूर दूँगा।

If you liked the Article Share it with your love ones because Sharing is caring!

1 thought on “Difference between Summon and Warrant in Hindi”

Leave a Comment

shares